तिरिभिन्नाट पोहा- पोहे-जलेबी का उधार | Poha Jalebi

 भिया राम  –रितिक  ने दूर से आते उमेश को देखकर कहा ।   जय श्री राम रितिक और कई चाली रियो है , तू दिखियो नी यार घणा दन थी ।  हा यार वो क्या है नी के अपना वो धंधा बंद हो गया था नी ने फिर अपने कने  पईसे आने वाले थे विदेश से वो भी नी आये , तो वो कालू है नी उसका पोहे जलेबी का उधार भोत हो गिया था । बस इसिच लिये अपन जो है नी अंडर ग्राऊंड हो गे थे ।

तो असो थो म्हारे लागयो के तू फेर कणी छोरी ने लेके भागी गियो है , पिछली बार तू ऊ पडोस के मोह्ल्ला की छोरी के भागी गयो ने फिर कई दन तक नी दिखियो थो । अरे यार उमेश भिया तुम भी ना मजे मत लिया करो , वो तो वो लडकी अपने पे फिदा थी ने फिर अपन नी भागे उसको लेके वो पप्पू भिया ने जबरदस्ती  बांध दी अपने गले ।  केने लगे के इससे इम्प्रेशन बढेगा ने लोग जानेगे फिर के रे थे के चुनाव आ रहे है तो तू फिर पापूलर होगा तो चुनाव भी जीत जायेगा ।

अपने पप्पू  भिया भी ना यार उमेश कभी कभी पगला जाते है और फिर अब उनकी जरुरत है ने देखो गायब है । एक तो पोहे –जलेबी की तलब है , विदेश से पईसा नी आ रिया है और अपने भिया कही छुप के बैठे होंगे । नी यार कई बात कर रियो है तू , पप्पू भिया तो महान इंसान है रे, वणा के वारे मे असी बाता मत कर । अरे नी यार उमेश भिया तुम भोत भोले हो , मैंने तो सुना है पप्पू भिया पर भी कालू का भोत उधार है , इसिलिये आजकल दिख नी रिये है । डर के बैठे होयेंगे कही ने फेक रहे होंगे लम्बी –लम्बी ।

पप्पू भिया ये सब सून रहे थे और उमेश ने पप्पू भिया को आते देख लिया था ।

क्यो रे गेलिये रितिक क्या बोल रिया था रे तू मेरे बारे मै के मैं डर रिया हू ।  पप्पू भिया ने रितिक को देखा ने दे रेपट, दे रेपट ने दे रेपट  ।  रितिक को ऐसा लगा के वो फ्री मे ही सरवटे, भवरकुआ और राजबाडा घुम आया । अरे यार भिया तुम बुरा मान गये यार , मैं तो मजाक कर रिया था ने मैंने तो सुना है तुम इस बार हम सबका पोहे-जलेबी का उधार माफ करवा रहे हो । हा यार दादा करवाई दो अणी बार नी तो फेर मांगी मांगी ने पोहा ने जलेबी खाना पडेगो । अरे तुम चिंता काहे कर रिये हो छोकरो ओन , इस बार अपने भिया खडे हो रे है चुनाव मे ने अपन अभी बात करके आ रे है उनसे , उनने का है के अगर इस बार उने वोट दिया चुनाव जीतने के  दस मिनिट मे अपन सब का पोहे-जलेबी का उधार चुका देंगे । भिया तमारो भी उधार है कई , तम तो कई रिया था के तमारो कई उधार कोनी ने फिर यो रितिक ने कियो तो तमने अणकी हवा उडाई दी ।

अरे नी रे उमेशिया , अब असो है के एक दन कई इंडिया को मैच आई रियो थो ने गली मे अपन देखी रिया था ।  वा कई दो छोरा ओन ने शर्त लगाई की जो हारेगो पूरी गली के पोया ने जलेबी खिलायेगो । अब जो छोरो हारी गयो वो रोवा लागी गयो , तो फिर अपन तो कई दरियादिल है तो फेर अपन ने सबके वणकी तरफ थी पोहा ने जलेबी खिलाई दिया तो वो पैसा अभी देना है कालू के अब भिया चुनाव लडी रिया है तो अपणा भी माफ कराई लेगा ।

वा भिया मतलब मान गये आपको , मतलब आपने जो काम किया है नी , आने वाले सालो मे कोई नी कर पायेगा ।

कुछ दिन बाद चुनाव हुये और भिया जीत गये ने पप्पू, रितिक और उमेश नाचते हुये जुलूस के संग पोच गये भिया के घर ।

भिया तमने तो की थी के दस मिनिट मे उधार माफ करी देगा , दो घंटा बीती गया ने अबार तक कोई खबर नी ।  अरे गेलिया आज तो जितिया है शाम तक करी देगा माफ, असो उतावला मत होये ।  उमेश तू भी ना यार , पप्पू भिया ने की है तो जरुर होगा ।

अगले दिन तीनो कालू की दुकान पर गये , अरे कालू भिया तीन प्लेट पोहे ने 100-100 ग्राम जलेबी दे दो । अब तो उधार माफ हो गया हमारा ये देखो कागज़् । कालू ने कागज़ पढा और दो प्लेट पोहे ने जलेबी लगाने को के दिया । उमेश ने कालू से कहा – भिया म्हारा से कई नाराजगी हेगी कई , तम म्हारे पोहा नी दे रिया हो । अबे झंडू तेरे को और रितिक को दे रिया हू ।  पप्पू भिया ने जैसे ही सूना उनका पारा आसमान के पार हो गया ।

 अबे कालू तेरे को समझ नी आ री क्या , अपने भिया चुनाव जीत गये है और सबका उधार माफ कर दिया है । अबे पप्पू तेरे से ज्यादा पढा हुआ हू इसमे साफ साफ लिखा है के उधार माफ करो पर उसका जिसका सिर्फ 500 रुपये का उधार है और तूने तो आजतक उधार मे ही खाया है।  अबे कालू । अबे पप्पू चुप रे नी तो तेरे चेलो के सामने बता दूंगा के उस दिन गली मे तूने शर्त लगाई थी के पाकिस्तान जीतेगा ने तेरी तो कोहली से बात हो गई है ने उसे मोदी ने कहा है के इमरान को तोहफे मे दे दो ये मैच । फिर तू शर्त हार गया था ने  सबको पोहे खिलाये थे 1000 रुपये तो उस दिन हो गे थे ।

पप्पू भिया के इज्जत के कचरे हो चुके थे ।  वो अपने चेलो से आंख नी मिला रे थे ।  अरे यार कालू भिया अपने खाते से दे दो या पप्पू भिया को पोहे, इन्होने अपनो को भोत पोहे खिलाये है।  हा यार दई दो अणा भी एक प्लेट पोहा , यू भी यो तम्हारो   उधार अणी जनम मे तो नी चुका पायेगा । ई अणी बार उपर वाले के कई के आया है म्हारा वजह थे लोग तम्हारे याद करेगा ।

पप्पू भिया ने सुना थोडा गुस्सा दिखाया और फिर सब एक साथ हस पडे ।

 तिरभिन्नाट पोहा- इंडिया व्र्सेज आस्ट्रेलिया

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का रिजाईन
Indori Poha Recipe | तिरभिन्नाट पोहा-सख्त लौंडा
तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया
तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप

Poha Jalebi,Poha Jalebi Image, Poha Jalebi Indore ,Best Poha Jalebi In Indore,Indori Poha Jalebi,Best Poha Jalebi In Bhopal,Poha Jalebi Near Me ,Poha Jalebi Jabalpur

India Tour Of Australia 2018

 India Tour of Australia 2018 First Test at Adelaide from 6-10 December 2018.

 

हर खेल मे जितने महत्वपूर्ण  खिलाडी  होते है उतने ही जरुरी उन्हे मैदान और उसके बाहर स्पोर्ट करने वाले दर्शक होते है । खिलाडी फिल्ड पर खेल खेलता है और वही खेल हर दर्शक के दिमाग मे भी चलता रहता है ।  कमेंटटॅर कह्ते है “  ohh it’s a loose ball outside the offstump” तो दर्शक अपने ही तरह से बात कहते है –  “अरे यार देख के तो डाल भाई” , “  मैंने तो पहले ही कहा था इसे मत रखो “ । 

इसके साथ ही जब जरुरत  होती तो टीम के साथ खडे होने की तो घर पर बैठे हुये ही कहते है- “  चलो- चलो  लडको  आराम से जीत रहे है ,सिंगल्स लेते रहो “ । मैं भी उन्ही दर्शको मे से एक हू, क्रिकेट का बहुत  बडा पंखा और टीम इंडिया का सबसे बडा सर्मथक ।  वैसे मैं टीम का आलोचक  भी हू और मेरा मानना है के जब आप  किसी का साथ दे तो उसकी आलोचना भी करे ताकी वो ये जान पाये के वो कहा गलत है ।

दोस्त का दोस्त अपना दोस्त और दोस्त का दुश्मन अपना दुश्मन

ये बात हमने फिल्मो मे काफी सुनी है । फिर इसे मैंने क्रिकेट मे अपना लिया , जब से क्रिकेट देखा तो कुछ याद रहा या ना रहा पर एक बात जरुर याद रही के पाकिस्तान से हार बर्दाश्त नही होगी । चाहे वो 96 वर्ल्ड कप का QUARTER FINAL हो या सहारा कप या फिर अनिल भाई के दिल्ली के टेस्ट मैच के 10 विकेट ।  हर बार टीम इंडिया  की इन जीत मे मैंने वैसा ही रिएक्ट किया जैसे बस ये लम्हा यही थम जाये और जिंदगी भर इन मैचेस की Highlights टीवी पर आती रहे । उस वक्त मोबाईल तो था नही पर अब मैं कई बार इन मैचेस हो  YouTube पर देखता रहता हू।  

हाल तो ये रह्ता था के हम दोस्त स्कूल या गली मे जब भी मिलते  एक बार Henry Olonga  की तारीफ कर लेते पर पाकिस्तान के किसी प्लेयर की तारीफ नही करते फिर चाहे वो Saeed Anwar ही क्यो ना हो ।  फिर रही सही कसर जेपी. दत्ता की  फिल्म Border ने कर दी ।

कारगिल युद्ध  के बाद स्कूल मे एक वाद-विवाद प्रतियोगिता हुई और मैंने उसमे जो बाते की वो मैं ऐसे कर रहा था जैसे सामने पाकिस्तानी सेना के टैंक हो और मैं Border का सनी देओल ।

फिर आया 2003

क्रिकेट  मे 2003 को कोई याद रखे ना पर मेरे पास इस साल की बहुत यादे है । सचिन का शोएब को मारा अपर कट, नेहराजी के छ: विकेट और फाईनल मे जहीर खान की वो वाईड गेंद । हर वर्ल्ड- कप की तरह इसमे भी हमने पाकिस्तान को हराया था ।  पूरा भारत ये मानता था के चाहे वर्ल्ड कप हार जाओ पर पाकिस्तान  से मत हारना ।  पर जब टीम इंडिया 2003 वर्ल्ड-कप के फाईनल मे हारी तो ऐसा लगा के ये आस्ट्रेलिया से बदला लेना होगा।

India Tour Of Australia 2018

 2003 के  टीम इंडिया के  आस्ट्रेलिया दौरे की शुरुवात  मे तो ऐसा लगा नही पर फिर जब अजित अगरकर ने एक सेशन मे छ:  विकेट लिये और वीरू ने शाम को ही आधे रन बना दिये , लगा के रौंद दो इनको यही । ये वो टेस्ट मैच है जिससे हम दर्शको के दिल मे जो जगह पाकिस्तान ने ली थी , आस्ट्रेलिया उसके काफी करीब आ गया था  । MonkeyGate  ने ये जगह फिर और पक्की कर दी थी।

अब दोस्तो मे ये बाते कम होती है के पाकिस्तान कैसे उस टीम से जीता , अब तो हर वो टीम जो आस्ट्रेलिया को हरा देती है वो हमारी खास हो जाती है । चाहे वो पाकिस्तान की टीम हो । 

2003 से अब तक जो भी आस्ट्रेलिया दौरा रहा हो, दिल करता है इनको इनके घर मे हराओ । ऐसे हराओ के चाहे ये कितना भी आगे बढ जाये वो हार इनको हमेशा पीछे धकेले । 2003 मे  Adelaide Test मे राहुल द्रविड का वो आखरी रन के लिये Square Cut हो , पर्थ मे आर.पी का वो बोल्ड या भज्जी का वो पोंटिंग को आऊट करके गुलाटिया खाना हो , ये सब Golden Moments की तरह दिल मे छ्प गये है  ।

आज से टीम इंडिया का आस्ट्रेलिया दौरा शुरु हो रहा है ।  वो वीरु के 195 रन , सचिन के  Sydney Test के 200  और  इशांत शर्मा  की वो “ एक और करेगा “  वाला स्पेल  की तरह इस बार Golden Moments एक से ज्यादा हो और हम सीरिज जीत कर वापस आये ।

Bhuvneshwar Kumar Said :Sachin को out करना हमेशा याद रहेगा: भुवनेश्वर कुमार

 

India Tour Of Australia | India Tour Of Australia 2016 | India Tour Of Australia 2017 | India Tour Of Australia 2015 | India Tour Of Australia Squad | India Tour Of Australia 2018 Test Squad । India Tour Of Australia 2003 Results

Best Hindi Gazal | महफिल

महफिल

महफिल मे रोज़ उनकी बात होती है,
हर शाम उनके नाम होती है,
डर खुदा से लगता है लेकिन,
फिर भी इबादत उनकी होती है,

 

महफिल मे रोज़ उनकी बात होती है
हर शाम उनके नाम होती है

गुज़रे जमाने के लोगो को कौन याद रखता है,
बात तो उनकी होती है,
जो बगावत करते है,
ज़ाम तो दर्द-ए-दिल की दवा है,—- 2
हकीमो को कौन याद रखता है
दर्द जाने के बाद,

 Best Hindi Gazal

महफिल मे रोज़ उनकी बात होती है,
हर शाम उनके नाम होती है

मौसमो को तो बदलना है ,
रुख हवा का चाहे जो भी हो,
शख्सियत हमारी वही है,
चाहे ज़ाम ही हाथ मे क्यो ना हो,

नशा ज़ाम का कुछ ऐसा,
बादलो का बारिश से है जैसा,
कलम हमारी जब चलती है,
उनकी तारीफ ही निकलती है,

शौक तो नही है ये हमारा—2
आदत अब बन गई है….

महफिल मे रोज़ उनकी बात होती है,
हर शाम उनके नाम होती है,
डर खुदा से लगता है लेकिन,
फिर भी इबादत उनकी होती है,
महफिल मे रोज़ उनकी बात होती है.

 

Chirag Ki Kalam

Gazal | Sawaal ye nahi ke vo Kaha hai

 

Best Hindi Gazal | Best Hindi Gazal Mp3 | Best Hindi Gazal Song | Best Hindi Ghazal Lyrics | Best Hindi Ghazal Shayari | Best Hindi Ghazal Lines | Best Hindi Ghazal Jagjit Singh | Best Hindi Ghazal Writer | Best Hindi Ghazal 2018

Hindi Shayari | शुक्र है शायरी है-1

शुक्रवार की इस हसीन शाम मे , मैं आपके लेकर आया हू , कुछ शायरीया जो आपके दिल को जरुर छू जायेगी ।  हर शुक्रवार

शुक्र है शायरी है

को इसी तरह से मैं आपको कुछ शायरीया सुनाता रहूंगा , उम्मीद है आप इस छोटे से शायर की शायरी को अपने दिल मे जरूर  उतारेंगे ।

आईये चलिये शुरु करते है ।

Hindi Shayari

” कदम-कदम पर गिरा हू मै,

पकड कर डोर हौसलो की चला हू मै,

इश्क भी किया मैंने तो छुप-छुप के ,

क्योंकि बेवफाई के शहर मे पला हू मै ।”

” कुछ दूर चलकर फिर रुक जाने की जिद है,
वक्त से आगे जाकर फिर उसे चिढाने की जिद है,
कश्तियो मे बैठे मुसाफिरो को किनारे पर जाने की जिद हैं,
हर तरफ बस कुछ ना कुछ पाने की जिद है,
जो कुछ देना पडे किसी गरीब को एक रुपया,
तो मुह छुपाने की जिद है.
अपनी जिंदगी मे सुकुन पाने की जिद है,
दुसरो की जिंदगी मे झाकने की जिद है,
मुस्कुराहट को गम से मिलने की जिद है
और मौत को हर जिद की हस्ती मिटाने की जिद है ।”

 

“चुप रहकर भी बहुत कुछ कहते थे,
तुम अहसासो के जरीये दिल मे रहते थे ।”

“मैं मुस्कुराता हू तो कहते है..गमो की समझ नही है..
और जब सैलाब था आंखो मे तो कहते थे…
तुम अकेले नही हो गम के सागर  मे | “

” हाथो मे चाय सुबह की,
और उसमे से उठता धुआ,
आंखो मे याद किसी की,
और होठो पर मुस्कानो का काफिला ” |

 

Hindi Poetry on Life

Stock, Investment, IPO, Mutual Funds, Demat Account Posts

Hindi Shayari  |Hindi Shayari  Love | Hindi Shayari  Mai | Hindi Shayari  Attitude | Hindi Shayari Dosti | Hindi Shayari  Sad |  Hindustan Movie  | English Song | Hindi Me Likhi Hui