फिर तेरी याद आयी

भीनी भीनी सी मिट्टी की महक आयी

ओस की बूंदों से पत्तो पर चमक आयी 

पीछे मुड़कर जब देखा मैंने 

तो याद तेरी फिर आयी 

अँधेरे  को दूर कर सूरज की रोशनी आयी 

सन्नाटे को चीरती चिडियों की चहचाहट आयी 

राज कई बंद हैं सीने में मेरे 

और उन्हें खोलने हँसी तेरी फिर आयी 

तेरी बातो का जादू हैं कुछ ऐसा

पत्थर भी सुनने लगे हैं ये कुछ ऐसा 

मधुशाला की और बढ़ते हुए मेरे कदमो को रोकने 

तेरी नशीली निगाहे  फिर आयी 

मुस्कुराते हुए वो पल फिर आये ,

तेरी जुल्फों  की छाव ले आये 

सोचा था फिर होगी मुलाकात तुझसे 

पर तुझे मुझसे छिनने  

ज़माने के ये रिवाज फिर आये .

(चिराग )

चाहत

बागो की कच्ची कलियों की महक 

तेरी चूडियो की खनक 

वो धुप में बारिश का आना 

वो चाँद का बदलो में छुप जाना 

पौ  फटते तेरी यादो में खो जाना 

सपनों में भी तेरा आना 

हर साँस में हैं तेरा नाम 

तुझे चाहना यही हैं मेरा काम 

चाहत को मेरी ना समझाना भूल 

तुझे पाना चाहता हूँ 

तेरा होना चाहता हूँ 

तुझमे ही आज खोना चाहता हूँ 

चाहू तो ज़िन्दगी तेरे नाम कर दूँ 

पर तू ही तो मेरी ज़िन्दगी हैं 

तुझे कैसे बतलाऊ 

दिखलाऊ कैसे मेरे दिल में बसा प्यार 

आईने में ना देख तस्वीर अपनी 

मेरे दिल में देख तकदीर अपनी 

तुझे पाना हैं मुझे 

बस यही शख्सियत हैं मेरी

(चिराग )

लालूजी

एक दिन लालूजी बोले राबड़ी से,

चलो कर आये हम लन्दन की सैर ,

क्यों न बनाये कुछ दिन लन्दन में अपना बसेर.

(उस पर राबड़ी जी बोली के)

लन्दन-वंदन की सैर छोडिये,

पहले गठबंधन को जोड़िये,

आ रहे है चुनाव करीब अगर हार गए तो रहना पड़ेगा इसी बसेर।

(लालूजी बोलते है)

आप चिंता न करे चुनाव की ,

इस बार हम ही जीतेंगे गद्दी बिहार की।

इस बार कर ली हमने चुनाव की सारी तेयारी ,

और नीतिश से करली है हमने यारी.

(उस पर राबड़ी जी बोली के)

ऐसा क्या किया आपने जो नीतिश बन गए आपके यार,

दो दुश्मनों के बीच कैसे पनपा इतना प्यार.

(लालूजी बोलते है)

हमने नीतिश से कहा बस इतना,

के आधा राज तुम्हारा आधा अपना.

(उस पर राबडी जी बोली के)

लेकिन फिर कोन बनेगा मंत्री और,

कोन बनेगा संत्री.

(लालूजी बोलते है)

चिंता न करो देखि है हमने भी खूब दुनिया,

नीतिश बनेंगे मनमोहन और तुम सोनिया.

(उस पर राबडी जी बोली के)

हमें आप पर नाज़ है मेरे प्राणनाथ ,

आपने तो कर दिए हर मुश्किल रास्ते साफ़.

अब न है कोई बंधन न है किसी से बेर,

चलो बनाये कुछ दिन लन्दन में अपना बसेर.

(चिराग )