Poems

मैं रहूंगा

जब तू सुबह उठ कर अपनी जुल्फो को सवार रही होगी , तब सुबह की उस ताज़गी मे , मैं रहूंगा  … मुस्कुरा कर जब तू आइने मे देख रही होगी खुद को , तब उस आइने मे संग तेरे, मैं रहूंगा … दिन मे जब तू बिना कुछ खाये Read more…

By Chirag Joshi, ago