Poems

कुछ बातें

शब्दों के खेल में  बातो के मेल में  उलझते हैं दिल के सवाल कई    शर्माती इठलाती हुई बातो में  वो अनकही मुलाकातों में  आँखों के इशारो में  मिल जाते हैं मौसम कई    छम-छम पायल की तेरी  जुल्फों की छाव तेरी  लबो से निकली वो बातें तेरी  दे जाती Read more…

By Chirag Joshi, ago