“ क्या भिया ? बोत दिन से दिख नी रिये हो । पेले रविवार भी तुम्हारा इंतेजार किया हमने नी-नी करके 2 घंटे तक राजू को पोहे नी बनान दिये के यार रुक जा अभी आ रिये होयेंगे पप्पू भिया पर तुम आये नी यार, ऐसा थोडा नी चलता है ” – रितिक ने दूर से आते हुये पप्पू भिया से कहा  । “ अरे यार बारीक क्या बताऊ यार वो एक तो पेले शनिवार को वो मैच के चक्कर मे रे गे और सुबह नींद नी खुली , वो मैच के बाद जो नाचे नी यार के क्या बताऊ , अपन सरवटे पर चिल्ला रिये थे ने आवाज़ एम.वाय तक आ री थी  । “

“ वो रविवार तो उसमे निकल गिया ने फिर यार ये अपने किसान भाईयो ने आंदोलन कर दिया “। रितिक-“ हा यार भिया ये तो गजब ही हुआ ने अब मान भी नी रिये है ये लोग “। पप्पू – “ नी यार रितिक अपने किसान भाई की सब बाते तो मान ली है अपने मामा ने “। रितिक- “तुम्हारे मामा, बताया नी भिया तुम्हारे मामा राजनीति मे है और तो ओर भिया अभी सरकार मे भी है “। पप्पू- “ अबे गेलिये मे अपने मुख्यमंत्री की बात कर रिया हू “।रितिक-  “अच्छा ,शिवराज मामा की के रिये हो “ । पप्पू- “ हा यार पर मेरे को लगता है के अपन सब भी तो किसान है , आज किसान भियाओ ने आंदोलन किया ने फिर उनका कर्ज़ माफ हुआ और फिर सब ठीक हो ही जायेगा “। रितिक-  “  भिया बात तो सही है , पर एक बात बताऊ ये तुम किसान कब से बन गिये , कही वो फेसबूक पर फार्मविले को तुम असली खेती तो नी समझ रिये हो “। पप्पू – “ अबे नी रे , मैं के रिया हू के इस देश मे बाकी लोग भी काम कर रहे है और सबके पास इतना पैसा भी नही है फिर वो तो कभी ऐसा आंदोलन नी करते , मैं किसान भियाओ की तकलीफ समझ रिया हू ,पर अगर ऐसे ही सब करने लगे तो देश कैसे चलेगा “। “ फिर क्या है के इस आंदोलन मे किसान भियाओ ने कम लफंदरो ने ज्यादा उत्पात मचाया है , दुध सडक पर फेक देना , सब्जिया फेकना ये कैसा आंदोलन है “। रितिक- “ भिया बात तो तुमने गेरी के दी  है  और बात सही भी है भारत मे जब जिसको विरोध करना होता है बस लग जाते है दुकान बंद कराने, इस चक्कर मे साल मैं  30 दिन तो ऐसे ही पोहे नी खाने को मिलते है “। “चलो भिया अपन चलते है पोहे खाते है , बाकी अपने मामा देख लेंगे “। पप्पू-“हा यार चल चले नी तो दुकान मे पोहे खत्म हो जायेंगे “।

पप्पू और रितिक जाते है पोहे खाने, वहा टीम इंडिया की फाइनल मे हार और विराट , अनिल कुबंले के बीच विवाद की बाते हो रही थी ।

 

kohli-kumble dispute

दोनो को आते देख कालू ने कहा – “ भिया आओ और बताओ क्या लोगे “। पप्पू- “  अबे पोहे और जलेबी ही मिल रिये है तो वो हीच लेंगे “। कालू- “ यार भिया बहुत टेंशन है यार, वो इंडिया फाइनल हार गी ने उपर से जम्बो ने कोच की पोजिशन से रिजाईन कर दिया “। रितिक –“  अबे किया नही करवाया है रिजाईन “। कालू- “क्या बात कर रिया है , किसने की उसे रिजाईन करने की “। रितिक- “अबे वो हीच दिल्ली का लोंडा है नी कोहली उसने की “। कालू- “ क्या बात कर रिया है यार , मतलब इतना बडा हो गिया वो , पप्पू भिया ने हमे कितना कुछ सिखाया अपन सब को रोज़ के 2-4 रेपट भी लगा देते है पर अपन कहा बुरा मानते है “। पप्पू- “ देखो यार अब अपना तो काम है तुम सबको आगे बढाना अब इसमे डाटना तो पडता है नी , अब कोहली को क्या है उसकी कोई गलती नी है मेरे को लगे ये सब उस छोरी के चक्कर मे हो रिया है “। कालू- “  पप्पू भिया ये गलत है , उस छोरी की क्या गलती “ पप्पू-“ अबे जम्बो भिया खूब मेहनत कराते थे और फिर कोहली के कने उस छोरी के लिये टाईम नी रेता होगा , बस इसी चक्कर मे हुआ है ये सब “। कालू- “नी भिया उस छोरी को तो क्रिकेट का कुछ पता नी है उसने नी किया होगा ऐसा “। रितिक –“ तेरे पास  सबूत है “। कालू-  “अरे मेरी घरवाली के री थी  वो देखती है सब न्यूज़ चैनल “। रितिक- “ देखा पप्पू भिया, लुगाई के चक्कर मे आज आपको गलत के रिया है , बस इसी कारन कोहली ने जम्बो के बीच लडाई हुई थी “। कालू-“कुछ भी मत बोले रितिक , मेरी घरवाली गलत नी केती, पप्पू भिया कहा न्यूज़ देखते है इन्हे पता नी होगा “। रितिक-“ भिया आपको गलत के रिया है, मतलब आपको  गलत के रिया है यार, पप्पू भिया जिनने हमे पोहे मे सही साट जीरावन डालना सिखाया और फिर भुल गिया जब वो तू उस लड्की को लाईन मार रिया था , ने फिर तुझे उसके भाई धो रिये थे तो पप्पू भिया ने ही बचाया था तुझे “।

कालू- “ अरे ऐसा नी है और जीरावन तो कोई भी डाल ले सही से “।

पप्पू ने गुस्से मे कालू को देखा ने दे रेपट, दे रेपट ,दे रेपट और कहा – “ जाओ मैं भी अब कोच पोजिशन से रिजाईन देता हू “।  

बाकी की तिरभिन्नाट पोस्ट पढने के लिये नीचे दी हुई लिंक पर क्लिक करो भिया

तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप

 


2 Comments

yashdeep vitthalani · 04/07/2017 at 3:14 am

bahut accha likha hai

    chiragjoshi · 06/07/2017 at 9:24 am

    thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा- इंडिया व्र्सेज आस्ट्रेलिया

 “यार उमेश बोत दिन हुये ये पप्पू भिया नी दिख रे है “ –रितिक ने कहा । “ हा यार मैं भी काम के चक्कर मे उधर जा नी पा रिया हू ने फिर शाम Read more…

तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप

“ हैलो……. कौन “ अबे बारीक मैं बोल रिया हू । “ अरे वाह यार भिया गजब कर रीये हो , इधर से भी तो मैं ही बोल रिया हू ” । “ अबे ओ Read more…

तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया

भियाओ…. कैसे हो सब लोग । क्या चल रिया है । तो मतलब ऐसे करोगे मतलब … मैं देहरादून क्या आ गिया । तुम सब अपने को भूल ही गिये । बहुत दिन से सोच Read more…