तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का रिजाईन

“ क्या भिया ? बोत दिन से दिख नी रिये हो । पेले रविवार भी तुम्हारा इंतेजार किया हमने नी-नी करके 2 घंटे तक राजू को पोहे नी बनान दिये के यार रुक जा अभी आ रिये होयेंगे पप्पू भिया पर तुम आये नी यार, ऐसा थोडा नी चलता है Read more…

By chiragjoshi, ago
Travel

देहरादून डायरी- टपकेश्वर मंदिर

10 जून 2016 को जब मुझे ये पता लगा के मेरा सिलेक्शन डी.आई.टी यूनिवर्सिटी मे हुआ । तब मैंने सबसे पहले इस शहर के बारे मे ही सोचा और मेरी सोच मे ये शहर पहाडो पर बसा हुआ था । तेढे-मेढे रास्ते, पहाडो पर चढना और उतरना ,कुछ इसी तरह Read more…

By chiragjoshi, ago
तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा-पप्पू भिया का लैपटाप

“ हैलो……. कौन “ अबे बारीक मैं बोल रिया हू । “ अरे वाह यार भिया गजब कर रीये हो , इधर से भी तो मैं ही बोल रिया हू ” । “ अबे ओ पंचर , मैं पप्पू बोल रिया हू रितिक “। “ अरे यार वो क्या है Read more…

By chiragjoshi, ago
तिरभिन्नाट पोहा

तिरभिन्नाट पोहा-इसके बिना जिंदगी खत्म भिया

भियाओ…. कैसे हो सब लोग । क्या चल रिया है । तो मतलब ऐसे करोगे मतलब … मैं देहरादून क्या आ गिया । तुम सब अपने को भूल ही गिये । बहुत दिन से सोच रिया था मैं के तुम सबसे बात करू वो क्या है नी के इधर एक Read more…

By chiragjoshi, ago
Uncategorized

आपका Whats App स्टेट्स क्या है ?

जिंदगी मे आपके नाम से आपकी पहचान हो जरुरी नही है । परंतु सोशल मिडिया पर आपके पहचान आपके स्टेट्स हो ये अक्सर होता है । फेसबूक हो या व्हाट्सएप वहा आपने क्या पोस्ट की है या क्या स्टेट्स लिखा है , हर कोई इनसे ही आपके बारे मे विचार Read more…

By chiragjoshi, ago
Uncategorized

WOW-Mind Your Language-क्योंकी हिंदी मॉ ने सिखायी है

भाषा इस दुनिया के निर्माण  का एक अहम हिस्सा है । जैसे हवा और पानी जीने के लिये जरुरी है । ठीक उसी तरह भाषा के बगैर इस दुनिया की कल्पना भी नही की जा सकती है । इस दुनिया मे कई तरह की भाषाये है और हर उस भाषा Read more…

By chiragjoshi, ago